Wednesday, March 7, 2007

धक- धक गर्ल माधुरी की वापसी

मेरी पिछ्ली पोस्ट के बाद मैनें सोचा कि थोडा हल्का- फ़ुल्का भी लिखा जाये… वैसे जिस विषय पर मैं यह ब्लोग लिख रही हूं वो हमेशा मेरे दिमाग के किसी ना किसी कोने में चलता रहता है, फ़िल्मों और माधुरी की दिवानी जो ठहरी …

rediff पर खबर देखी The return of Madhuri Dixit.. और दिल बल्ले बल्ले कर गया… जब से उन्का पहला डांस देखा था तेजाब में मै पुरी तरह से उनकी पंखी बन गयी थी और हुं ।

जिस तरह से उन्होने शोहरत और सफ़लता की सिढियां चढी वो एक मध्यम वर्ग से आयी हुई लडकी के लिये आसान नही थी, और फ़िल्म इन्डस्ट्री जहां पर आप के नाम के पिछे कपुर, खान या बच्चन का होना आवश्यक है… एक मराठी लडकी आइ और छा गई पुरी इन्डस्ट्री पर ।

उनके पहले सारी दक्षिण की तारिकाओं का बोलबाला था, श्रीदेवी, जयाप्रदा आदि अभिनेत्रीयों की
छुट्टी कर दी थी उन्होनें …

सो आप मुझे कह सकते हैं Mad about Madhuri.. मेरे बहुत से मित्र (लड्के) अक्सर मेरे इस विचार से तकल्लुफ़ नही रखते और मुझे इसका कोई फ़रक भी नही पडता , क्योंकी माधुरी सिनेमा के आकाश का सुर्य हैं जो अपनी रोशनी के साथ हमेशा जगमगाता रहेगा …
बहुत सालों के बाद उनकी नई फ़िल्म आ रही है “आजा नच ले” और इसमें वो एक डांसर की भुमिका निभा रही हैं …आज भी जब वो ४० के आसपास आ चुकी हैं उनके
सौंदर्य में कही कमी नही आयी है…
कुछ दिनो पहले PNG के एक समारोह में मुख्य अतिथी बन कर आयीं और मेरे बदनसीब के मैं उनसे ना मिल सकी… जीवन में और एक इछ्छा है अगर भगवान मिला सके तो एक बार मुझे माधुरी दीक्षीत से मिलवा देना.. ये सब पढ कर कही आपको वो फ़िल्म तो याद नही आ रही – मैं माधुरी दीक्षीत बनना चाहती हुं …हा हा हा


First two Images courtesy Rediff


3 comments:

अनूप शुक्ला said...

बढ़िया है। हमे तुम्हारे लिखने का अन्दाज भाता है। लिखती रहो। बहुत खूब!

Mishra, RC: रा च मिश्र said...

हमने तो देख भी लिया है -:)।

और जब Moderation कर ही रहे हैं तो ये गुगल अकाउन्ट वाला झमेला हटा ही दीजिये

Shrish said...

माधुरी की दीवानी आप अकेली नहीं हम भी हैं, असल में माधुरी के बाद नंबर वन नाम की कोई हीरोइन हुई ही नहीं।

और फिर पाकिस्तानियों का कहना कि माधुरी दे दो, कश्मीर ले लो। :)